20 साल से महिला को एक अँधेरे कमरे में रखा था कैद

goa

पणजी: कैंडोलिम गांव में गोवा की एक एनजीओ ने पुलिस की मदद से पिछले 20 साल से एक घर में कैद 50 साल की एक महिला को घर वालो के चुंगल से बचा लिया है। पीड़ित महिला का नाम सुनीता वेरलेकर है। महिला मानसिक रूप से बीमार थी और उसे एक अंधेरे कमरे में कैद करके रखा गया था। पुलिस ने एनजीओ की शिकायत पर महिला के परिजनों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है।

सूत्रों से प्राप्त जानकारी के अनुसार, सुनीता के भाई मोहनदास वेरलेकर ने बताया की , उसकी शादी मुंबई में हुई थी, लेकिन जैसे ही उसे यह पता चला की उसका पति पहले से शादीशुदा था, तो वह घर वापिस लौट आई। इस घटना के बाद ही महिला का बर्ताव अबनॉर्मल हो गया था, जिसके बाद उसे कमरे में बंद करके रखा गया था। उसे खिड़की के रास्ते से खाना-पानी दिया जाता था। सुनीता को बचाने के बाद उसे इलाज के लिए अस्पताल भेज दिया गया है।

goa
बता दे की, गोवा की एक एनजीओ ‘बैलंचो’ ने इस महिला को उसके ही घर से बचा लिया है। एनजीओ को इ-मेल कर इस महिला की कमरे में कैद होने की जानकारी दी गई थी। एनजीओ ने इसकी जानकारी स्थानीय पुलिस को दी। इसके बाद पुलिस स्टेशन की एक टीम ने घर पर छापा मारा । छापा मार कर पुलिस जैसे ही कमरे में दाखिल हुई तो महिला को नग्न अवस्था में पाया गया। वह कमरे से बाहर निकलने के लिए भी तैयार नहीं हो रही थी। पुलिस के मुताबिक महिला को लगभग 20 साल तक उस कमरे में बंद करके रखा गया था।

goa
पुलिस ने अभी इस मामले में किसी की गिरफ्तारी नहीं की है। महिला और उसके परिजनों के बयान लिए जा चुके हैं। पुलिस इस मामले की अधिक जाँच कर रही है।