राष्ट्रपति के हाथों झंडा फहराकर श्री साईबाबा समाधी शताब्दी महोत्सव का शुभारंभ

शिर्डी: श्री साईबाबा समाधी जन्म शताब्दी तथा शिर्डी हवाई अड्डे का उद्घाटन राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के हाथों संपन्न हुआ ।

इस अवसर पर मंचपर राज्यपाल विद्यासागर राव, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, राष्ट्रपती की पत्नी श्रीमती सविता कोविंद, केंद्रीय नागरी उड्डयन मंत्री अशोक पी. गजपती राजू, जलसंसाधन मंत्री तथा जिले के पालक मंत्री प्रा. राम शिंदे, विधान सभा के विपक्ष नेता राधाकृष्ण विखे-पाटील, सांसद दिलीप गांधी, सांसद सदाशिव लोखंडे, विधायक स्नेहलता कोल्हे, साईबाबा संस्थान के ट्रस्टी व्यवस्था के अध्यक्ष सुरेश हावरे, उपाध्यक्ष चंद्रशेखर कदम, मुख्य कार्यकारी अधिकारी रुबल अग्रवाल आदि उपस्थित थे ।

इस अवसर पर अपने भाषण में राष्ट्रपति ने कहा कि, भौतिक तथा सांस्कृतिक दृष्टिसे दो प्रदेश जुडे जाने से विकास को गति मिलेगी । भारतीय संस्कृती में धर्म के साथ ही अर्थ को भी महत्व है । आर्थिक विकास के चलते रोजगार के अवसर प्राप्त होते है । उस दृष्टिकोनसे छोटे शहर में विमानसेवा महत्वपूर्ण है । शिर्डी स्थित अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से दुनिया के साईभक्तों को कम समय में शिर्डी में आने की सुविधा उपलब्ध हो गई है । इससे दुनिया के अलग-अलग देशों से भक्तों को शिर्डी आने में आसानी होगी ।

राष्ट्रपति ने कहा कि मै साईभक्त इस नाते शिर्डी आता रहा हूँ लेकिन, आज श्री साई बाबा के समाधी शताब्दी महोत्सव के उद्घाटन के लिए इस भूमी में आने से मै खुद को भाग्यशाली समझता हूँ । साईबाबा के रहने के कारण यह भूमी पावन हुई है । यह भूमी महाराष्ट्र के धार्मिक वैभव को बढाने में मददगार साबित हुई है । शिर्डी स्थित साईबाबा का मंदिर सर्वधर्म समाभाव का प्रतिक है । यहा के व्यवस्थापकों ने स्वच्छता को प्राथमिकता देना चाहिए, ऐसा भी राष्ट्रपती ने कहा ।

श्री साईबाबा समाधी मंदिर परिसर में राष्ट्रपती कोविंद के आगमन के पश्चात डॉ हावरे, मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्रीमती अग्रवाल, उपाध्यक्ष चंद्रशेखर कदम इन्हृोने राष्ट्रपति का स्वागत किया । श्री कोविंद के हाथों ध्वजपूजा तथा ध्वजारोहण सपन्न हुआ । इसके पश्चात राष्ट्रपति ने श्री साईबाबा समाधी मंदिर में जाकर साईबाबा का दर्शन लिया।