उद्धव ठाकरे ने राहुल को जुतों से पीटना चाहिए – रणजीत सावरकर

Uddhav-Rahul-Ranjit

वीर सावरकर के पोते रंजीत सावरकर ने कांग्रेस नेता राहुल गांधी पर सार्वजनिक रूप से अपने दादा का अनादर करने का आरोप लगाते हुए शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे से उनके खिलाफ कार्रवाई करने की मांग की है।

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मैं मर जाऊंगा, पर माफी नहीं मांगूंगा। मैंने जो कहा है, सच कहा है। वैसे भी मेरा नाम राहुल गांधी है, राहुल सावरकर नहीं है। राहुल गांधी के इस बयान के बाद काफी बवाल मचा।

Source : Republic TV

रंजीत ने आगे ये भी कहा कि यह अच्छा है कि राहुल गांधी राहुल सावरकर नहीं हैं। नहीं तो हम सबको अपना मुंह छिपाना पड़ता। अब हम उम्मीद करते हैं कि शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे अपना वादा निभाएंगे । उन्होंने याद दिलाया कि उद्धव कई बार कह चुके हैं कि यदि किसी ने सावरकर का अपमान किया, तो वे उनको सार्वजनिक रूप से पीटेंगे ।

वीर सावरकर ने कभी भी ब्रिटिशोंसे माफी नहीं मांगी। इसलिए राहुल गांधी जो कह रहे है उसमे कोई तथ्य नहीं है | 1979 में पंडित नेहरू ने व्हॉईसरॉय की परिषद में एक पद हासिल करने क लिए और सत्ता के लोभ में ब्रिटिश और जॉर्ज के प्रति वफादार रहने की कसम खाई, यह रिकॉर्ड में है । पंडित नेहरू ने इस शपथ को इतनी ईमानदारी से धारण किया कि देश की स्वतंत्रता के बाद भी, 1950 तक, किंग जॉर्ज को भारत का सम्राट माना जाता था। पंडित नेहरू भारत के हर निर्णय के लिए उसने अनुमति लेते थे। ऐसी गुलामीगिरी मानसिकता वाले पंडित नेहरू के पोते से वीर सावरकर का अपमान होना स्वाभाविक ही है। विदेशी गुलामी उनके खून में ही है | ऐसे कड़े शब्तों में वीर सावरकर के पोते रंजीत सावरकर बोले |