दलित युवक के बलात्कार करने से पीड़िता ‘अशुद्ध’ ; गांव का सामाजिक बहिष्कार

The victim is 'unclean' due to rape by Dalit youth

राजगढ़ :- मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिल्हा में एक अजीब घटना सामने आई है। यहां एक लड़की पर दलित युवक ने बलत्कार किया था। इस मामले में गांव की पंचायत ने अजीब सा फैसला किया। बलात्कार करने वाला युवक दलित होने की वजह से पीड़िता का परिवार ‘अशुद्ध’ हो गया है। ऐसा अजीब फैसला पंचायत ने किया है। पीड़िता का शुद्धिकरण करने के लिए पंचायत ने परिवार को भंडारा का आयोजन करने की सज़ा सुनाई थी । पंचायत ने दिए आदेश को पूरा नहीं करने पर परिवार का सामाजिक बहिष्कार किया गया। ऐसा आरोप परिवार ने लगाया है।

जानकारी के अनुसार, मार्च में, गांव डूंगरपुरा के युवा सियाराम द्वारा एक 17 वर्षीय किशोरी के साथ सामूहिक बलात्कार किया गया था। पीड़ित परिवार ने इस संबंध में पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर जेल में डाल दिया। जबकि पीड़ित परिवार ने अभी तक सदमें से बाहर नहीं आया था। अब पंचायत ने उनके खिलाफ निष्पक्ष जनादेश दिया है।

पंचायत ने कहा था कि जिस लड़की के साथ बलात्कार हुआ था अब वह ‘अशुद्ध’ हो गई है क्योंकि आरोपी दलित था। इसलिए परिवार और पीड़िता की शुद्धि के लिए पंचायत ने भंडारा करने के लिए कहा था। लेकिन गरीबी के कारण संभव नहीं हो सका। इससे उनका सामाजिक बहिष्कार हुआ। उन्हें अब किसी कार्यक्रम में आमंत्रित नहीं किया जाता है, कोई भी उनके पास नहीं आता है।

पीड़ित के माता-पिता ने जिला अधिकारियों से शिकायत की। उन्होंने मानवाधिकार आयोग को भी शिकायत की है। पुलिस को अभी तक पीड़ित परिवार से कोई लिखित शिकायत नहीं मिली है। जानकारी है कि शिकायत आने के बाद कार्रवाई की जाएगी।