कोल्हापुर में २४ मार्च को महा-गठबंधन की सभा – मुख्यमंत्री

औरंगाबाद : महागठबंधन के समर्थक पार्टी को हमने बीच राह में नहीं छोड़ा है। वह अभी भी हमारे साथ है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने औरंगाबाद में हुई सभा में घोषणा की कि, आने वाली २४ मार्च को कोल्हापुर में महागठबंधन की सभा होगी।

औरंगाबाद में हुई भाजपा-शिवसेना गठबंधन की सभा में सिर्फ महागठबंधन की समर्थक पार्टी के नेता रिपाइं के अध्यक्ष रामदास आठवले और रष्ट्रीय समाज पार्टी के नेता महादेव जानकर मौजूद नहीं थे। जिस वजह से इन दोनों को भाजपा और शिवसेना ने शामिल नहीं करने की चर्चा शुरू थी। इस पर मुख्यमंत्री ने स्पष्टीकरण दिया है।

कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए, मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा, जब शिवसेना-भाजपा गठबंधन की पुष्टि हुई, तो मीडिया में कुछ लोगों ने जान बूझकर महागठबंधन के बारे में सवाल उठाए। हालांकि, गठबंधन हुआ, लेकिन महागठबंधन के समर्थक आठवले और जानकर सभा में नहीं दिखे। जिस पर भी चर्चा हुई कि, उन्हें गठबंधन में शामिल नहीं किया गया है। हालांकि, ऐसा कुछ नहीं हुआ है। वह अब भी शिवसेना और भाजपा के साथ है। शिवसेना और भाजपा के बीच केवल थोड़ी अनबन थी। जो दूर करने का प्रयत्न किया गया है। इसलिए, मुख्यमंत्री ने घोषणा की कि, हमारे सभी साथी आगामी २४ मार्च को कोल्हापुर में उपस्थित होंगे, जब महागठबंधन की सभा होने वाली है।

यह भी पढ़ें  : पर्रिकर की हालत हुई गंभीर, भाजपा तलाश रही नया मुख्यमंत्री

इस समय विरोधियों की आलोचना करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि उन्होंने एक बार किसानों के लिए ५० हजार रुपये का कर्ज माफ कर दिया है, तो वे दस साल तक यही बताते रहेंगे। हालांकि, हम योजना को तब तक जारी रखेंगे जब तक कि अंतिम किसान का कर्ज माफ नहीं होता । उन्होंने दावा किया कि, अगले दस वर्षों के दौरान, किसान के खाते में ७.५ लाख रुपये जमा किए जाएंगे।

पाकिस्तान पर सेना द्वारा किए हमले का सबूत मांगने पर फडणवीस ने विरोधियों पर टिप्पणी करते हुए कहा कि,अगर उन्होंने पहले बताया होता की उन्हें सबूत चाहिए। तो उनका एक व्यक्ति बांधकर साथ ले गए होते और उन्हें सबूत दिखाया होता। उन्होंने कहा कि, अच्छा हुआ की विरोधी पक्ष की सरकार चुनकर नहीं आई वरना उन्होंने मसूद अजहरजी की, जनरल डायर जी ऐसे बोलकर संबोधित किए होते। फडणवीस ने आगे कहा कि, जनता देशभक्तों के साथ खड़ी होगी और जनता तय करेगी कि देशप्रेमी कौन है?