पूरे सतारा जिले को सूखा मुक्त बनाया जाएगा-मुख्यमंत्री

CM
  • राष्ट्रीय महामार्गों का काम चार गुना बढ़ा बढ़ा दिया है
  • राज्य की सिंचाई क्षमता में उल्लेखनीय वृद्धि-
  • मेडिकल कॉलेज की नियुक्तियों के सवाल को जल्द ही हल किया जाएगा

मुंबई: केंद्र सरकार की मदद से राज्य में सिंचाई और सड़क विकास कार्यों के लिए करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं और राज्य के विकास की गति में वृद्धि हुई है। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज विश्वास जताया कि 2019 तक राज्य की सिंचाई क्षमता में काफी वृद्धि होगी, जलयुक्त शिवार, उरमोडी, जिहे-कटापुर योजनाओं के माध्यम से पूरे सतारा जिले को सूखा मुक्त बनाया जाएगा। उन्होंने कहा कि जिले में मेडिकल कॉलेज के लिए जमीन का मामला सुलझ गया है और एक महीने के भीतर नियुक्तियों का काम पूरा हो जाएगा।

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने राष्ट्रीय राजमार्ग संख्या 4 पर खंबाटकी घाट के क्षेत्र में (3-मार्ग संयुक्त सुरंग) नई छह-लेन सुरंग के काम का शिलान्यास किया, जिसमें एप्रोच रोड, और हेलवाक से कराड सेक्शन तक तथा सातारा से म्हसवड खंड और धोम बलकवड़ी परियोजना की मुख्य नहर का उद्घाटन मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस के हाथों किया गया । वह इस अवसर पर बोल रहे थे। कार्यक्रम की अध्यक्षता केंद्रीय सड़क, परिवहन और राजमार्ग, जल संसाधन मंत्री नितिन गडकरी ने की।

राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल, जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन, पुणे के पालक मंत्री गिरीश बापट, सहकारिता मंत्री सुभाष देशमुख, सतारा के पालक मंत्री विजय शिवतारे, पशुपालन मंत्री महादेव जानकर, कृषि राज्य मंत्री सदाभाऊ खोत, जिला परिषद अध्यक्ष संजीव नाइक निम्बालकर, सांसद श्री उदयनराजे भोसले, श्री विनय सिंह मोहिते-पाटिल, अन्नासाहेब पाटिल वित्तीय विकास निगम के अध्यक्ष नरेंद्र पाटिल, विट्ठल रुक्मिणी मंदिर समिति के अध्यक्ष डॉ अतुल भोसले, सहकार परिषद के अध्यक्ष, शेखर चरेगांवकर, कृष्णा घाटी विकास निगम के उपाध्यक्ष, नितिन बानगुडे -पाटिल, विधायक शिवेंद्र राजे भोसले, मकरंद पाटिल, शंभुराज देसाई, दीपक चव्हाण, सतारा नागराध्यक्षा माधवी कदम, जिलाधिकारी श्वेता सिंघल, जिला परिषद के मुख्य कार्यकारी अधिकारी कैलाश शिंदे आदि इस अवसर पर उपस्थित थे।

मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने सिंचाई और सड़कों के लिए भरपूर धनराशि प्रदान करने के लिए केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी का आभार व्यक्त करते हुए कहा, केंद्र सरकार प्रधानमंत्री सिंचाई योजना और ‘बलिराज योजना ’के माध्यम से राज्य को भारी धनराशि दे रही है। इसलिए, राज्य में कई सिंचाई परियोजनाएं चल रही हैं। काम में तेजी लाने के अलावा जल संसाधन विभाग ने पारदर्शी कामों पर जोर दिया है। इस विभाग में, 63% कार्य निविदा रूप में किए जा रहे हैं। राज्य में एक नई पारदर्शी कार्य संस्कृति बनाई गई है।

कृष्णा-भीमा घाटी में, दो परियोजनाओं के माध्यम से अगले छह महीनों में 50,000 हेक्टेयर का इलाका सिंचाई के तहत आ जाएगा। सरकार किसानों को सूक्ष्म सिंचाई का लाभ देने पर ध्यान केंद्रित कर रही है। आने वाले दिनों में पश्चिमी महाराष्ट्र की तस्वीर बदल जाएगी। राज्य में बिजली की मांग को हल करने के लिए एक लाख सौर पंप वितरित किए जाएंगे। शीघ्र नए बिजली कनेक्शन दिए जाएंगे। लंबित बिजली बिलों के रहते, सभी लिफ्ट सिंचाई परियोजनाओं को सौर ऊर्जा के तहत लाया जाएगा।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पेयजल योजनाओं पर बड़ा काम किया है। श्री फड़नवीस ने कहा, 8 हजार पेयजल योजनाओं का काम पूरा हो चुका है और 10 हजार नई योजनाओं के लिए काम चल रहा है। उन्होंने कहा कि पूरा सतारा जिला जलयुक्त शिवार , जिह-कटापुर और उरमोड परियोजना के कारण पूरा सातारा जिला सूखे से मुक्त हो जाएगा।

● राष्ट्रीय राजमार्ग चार गुना बढ़ गए

राज्य में सड़क विकास का काम भी बड़े पैमाने पर चल रहा है। इससे पहले, राज्य में केवल 5 हजार किलोमीटर राष्ट्रीय राजमार्ग थे। ये पिछले चार वर्षों में चार गुना बढ़ गये हैं। 10 हजार किलोमीटर के राज्य में राजमार्गों का कार्य प्रगति पर है। इसलिए, अगले दो वर्षों में राज्य में सड़कों का विकास होकर सड़कों का अच्छा नेटवर्क बन जाएगा । इसके माध्यम से बड़ी संख्या में रोजगार सृजित होगा। खंबाटकी घाट में नई छह-लेन सुरंग दुर्घटनाग्रस्त क्षेत्र में दुर्घटनाओं को कम करेगी। इसके अलावा, मुंबई खोपोली रोड पर 8 किलोमीटर लंबी सुरंग और 4-किलोमीटर केबल पुल पर भी काम शुरू किया जाएगा और मुंबई-बंगलूरू कॉरिडोर के विकास पर विशेष जोर दिया जाएगा।

● चीनी उत्पादन की तुलना में इथेनॉल के उत्पादन के लिए किसान आखे बढ़ें : केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी

इस अवसर पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा, जब भी पानी की उपलब्धता बढ़ जाती है, तो किसान गन्ने की फसलों की ओर रुख करते हैं। इसलिए, पिछले कुछ दिनों में, अतिरिक्त चीनी उत्पादन का मुद्दा हमारे सामने खड़ा हुआ है। इसलिए, सरकार को आने वाले दिनों में नये चीनी कारखानों के लिए अनुमति नहीं देने की भूमिका निभानी होगी।

चीनी उद्योग की समस्याओं को हल करने के लिए, सरकार ने एक नई नीति तैयार की है। गन्ने से सीधे इथेनॉल उत्पादन पर जोर देने की आवश्यकता नहीं है। आने वाले दिनों में पेट्रोल और डीजल के विकल्प के रूप में इथेनॉल का उपयोग किया जाएगा। भारत सरकार इथेनॉल खरीदने के लिए तैयार है। इसीलिए किसानों और उद्योगपतियों को इथेनॉल उत्पादन की ओर मुड़ना चाहिए। इसके लिए किसानों को फसल चक्र में बदलाव करने की जरूरत है।

श्री गडकरी ने कहा कि राज्य की सड़कों के विकास का काम केंद्र की मदद से किया गया है। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग विकास प्राधिकरण के माध्यम से राज्य में 5 लाख करोड़ रुपये के कार्य चल रहे हैं। सड़क विकास के अलावा, प्रधान मंत्री सिंचाई योजना और ‘बलिराजा सिंचाई योजना’ के माध्यम से राज्य में जल संरक्षण के प्रमुख कार्य चल रहे हैं। केंद्र सरकार राज्य में सिंचाई परियोजनाओं के काम को पूरा करने के लिए सभी आवश्यक धन उपलब्ध कराने के लिए तैयार है। राज्य में सड़कों के विकास के अलावा, जल संरक्षण के काम को गति देने के लिए 170 ब्रिज-कम- बाँध का काम जारी है। उन्होंने कहा कि राज्य की सिंचाई क्षमता 50 प्रतिशत तक बढ़ जाएगी।

राजस्व मंत्री चंद्रकांत पाटिल ने कहा, सरकार का ध्यान बुनियादी ढांचे के विकास पर केंद्रित है। इसके अतिरिक्त, जलापूर्ति योजना के माध्यम से बड़े कार्य किए गए हैं। केंद्र सरकार द्वारा सड़कों के विकास के लिए राज्य को 1 लाख 6 हजार करोड़ रुपये मिले हैं। इसके माध्यम से राज्य में सड़कों का बड़ा विकास हुआ है।

जल संसाधन मंत्री गिरीश महाजन ने कहा, “यह वह दिन है जब सतारा जिले के लिए वचनपूर्ति का दिन है। राज्य के साथ-साथ देश में सड़क का काम एक बड़ा कदम है। शहरी क्षेत्रों के साथ-साथ ग्रामीण क्षेत्रों का विकास बढ़ा है। राज्य के विकास की परियोजनाओं को पूरा किया जाएगा।

राज्य मंत्री विजय शिवतारे ने कहा कि जिले के लिए कई लंबित मुद्दों को हल कर लिया गया है।

सांसद उदयन राजे भोसले ने कहा, “जिले के विकास से संबंधित कई दिनों से जो लंबित मुद्दे हैं, उन्हें हल कर लिया गया है। उन्होंने मराठा आरक्षण के साहसिक निर्णय के लिए मराठा समाज की ओर से राज्य सरकार को धन्यवाद दिया।

कार्यक्रम की प्रस्तावना भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के डी ओ तावडे ने दी। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस को भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण द्वारा सम्मानित किया गया। मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने डिजिटल कुंजी दबाकर खंबाटिका सुरंग सड़क के फाउंडेशन पत्थर का अनावरण किया। इसके अलावा, धोम बलकवड़ी मुख्य परियोजना की नहर का उद्घाटन मुख्यमंत्री श्री फड़नवीस द्वारा किया गया था। इस समय, खंबाटकी सुरंग के प्रस्तावित कार्य का वीडियो द्वारा धूम बलकवडी परियोजना के बारे में जानकारी प्रदर्शित की गई ।

सतारा जिले के जलयुक्त शिवार अभियान पर कॉफी टेबल बुक गणमान्य लोगों के हाथों जारी की गई। भारतीय राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण के आयुष्मान श्रीवास्तव द्वारा धन्यवाद ज्ञापन किया गया। इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में जिले के नागरिकों ने भाग लिया।