राज्य में 5 सालों में 50 हजार किलोमीटर रास्तों के कामों की शुरुवात – मुख्यमंत्री

Hon CM at Latur prog-1
  • नांदेड- लातूर रोड गुलबर्गा नए रेलवे मार्ग को राज्य सरकार 50 फीसदी मदद करेगी
  • लातूर जिले ने जलसंधारण का नया पैटर्न निर्माण किया
  • मराठवाड़ा का जलसंकट वॉटर पॉवर ग्रिड के माध्यम से निपटाया जाएगा

लातूर : वैश्विक स्तरपर यातायात की अच्छी सुविधाओं के कारण उद्योग और खेती व्यवसाय को बढ़ावा मिलने के साथ साथ स्वास्थ्य की दर्जेदार सुविधाएं उपलब्ध हुई हैं. केंद्र और राज्य सरकार के माध्यम से पिछले चार-पाच सालों में 50 हजार किलोमीटर के रास्तों के कामों की शुरुवात हुई हैं. इसमें से सात हजार किलोमीटर राष्ट्रीय महामार्ग, 22 हजार किलोमीटर के मुख्यमंत्री ग्राम सडक योजना के काम तथा सात हजार किलोमीटर के राज्यमार्ग के काम प्रगति पथपर हैं, ऐसी जानकारी मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज यहां दी.

अहमदपूर में आयोजित लातूर जिला पैकेज अंतर्गत केंद्रीय सड़क यातायात और राज्यमार्ग, राष्ट्रीय महामार्ग, (सार्वजनिक निर्माण ) और राज्य सड़क विकास महामंडल की ओर से 11 हजार 680 करोड़ के विभिन्न विकासकामों का लोकार्पण और भूमिपूजन समारोह के अवसर पर मुख्यमंत्री फडणवीस बोल रहे थे.

इस अवसर पर केंद्रीय सड़क परिवहन, महामार्ग जलसंपदा मंत्री नितीन गडकरी, कामगार कल्याण, कौशल्य विकास मंत्री तथा पालकमंत्री संभाजी पाटिल निलंगेकर, सांसद डॉ.सुनील गायकवाड, विधेम श्री विनायक पाटिल, सुधाकर भालेराव, प्रताप पाटिल चिखलीकर, विधायक तुषार राठोड, जिला परिषद के अध्यक्ष मिलिंद लातूरे, उपाध्यक्ष रामचंद्र तिरुके, पूर्व विधायक गोविंद केंद्रे, विभागीय आयुक्त सुनील केंद्रेकर, जिलाधिकारी जी.श्रीकांत, मुख्य कार्यकारी अधिकारी विपीन इटनकर, एमएसआरडीसी के मुख्य अभियंता विनयकुमार देशपांडे, गणेश हाके, नागनाथ निडवदे और मान्यवर उपस्थित थे.

मुख्यमंत्री फडणवीस ने कहा कि, राज्य में 15 हजार किलोमीटर के राष्ट्रीय महामार्ग, 10 हजार किलोमीटर के राज्यमार्ग तथा मुख्यमंत्री ग्रामसडक योजना के अंतर्गत 30 हजार किलोमीटर के ग्रामीण रास्तों के कामों को शुरुवात हुई हैं. इससे राज्य का हरेक गांव रास्तों से जोड़कर विकास को अधिक बढ़ावा मिलेगा. राज्य के इतिहास में पहली बार इतने बड़े पैमाने पर रास्तों के काम शुरू हैं, ऐसा उन्होंने कहा.

केंद्र सरकार के प्रधानमंत्री कृषि सम्मान योजना से देश के किसानों को प्रतिवर्ष छह हजार रुपये सीधे दिए जाएंगे, कुलमिलाकर 75 हजार करोड़ सीधे बैंक खाते पर जमा किए जाएंगे. राज्य सरकारने राज्य के किसानों को 21 हजार करोड़ की कर्ज माफी देकर राहत दी हैं. यह योजना अंतिम तबके के किसान तक पहुंचाई जाने तक शुरू रहेगी, ऐसा श्री. फडणवीस नव बताया.

केंद्र सरकार के माध्यम से गुजरात और महाराष्ट्र इन दो राज्यों में नदीजोड प्रकल्प के अंतर्गत वर्ष 2010 में हुए करार का सर्वाधिक लाभ गुजरात को मिलने के कारण इस सरकार ने यह करार इस सरकार ने रद्द किया है. महाराष्ट्र को लाभ हो सकें ऐसे नए करार पर काम शुरू है, ऐसा श्री. फडणवीस ने बताया. राज्य सरकार द्वारा एकात्मिक जल प्रारूप तैयार किया है. ऐसा प्रारूप तैयार करनेवाला महाराष्ट्र देश का पहला राज्य है, ऐसा उन्होंने कहा.

मराठवाड़ा के पानी प्रश्न को छुड़ाने के लिए मराठवाड़ा सुजलाम-सुफलाम करने के लिए प्रयास किए जा रहे हैं. मराठवाडा वॉटर ग्रीड के माध्यम से पाईपलाईन से मराठवाड़ा के सभी क्षेत्र में समान प्रमाण में पानी देने का काम किया जाएगा ऐसा श्री. फडणवीस नव बताया. वॉटर ग्रीड के डीपीआर को अनुमति दी गई है. यह काम पूर्ण करने के लिए सात से आठ साल का कालावधि लगेगा, इसके लिए 25 हजार करोड़ का खर्च अपेक्षित है, ऐसा उन्होंने बताया.

राज्य में जलयुक्त शिवार अभियान, जो मांगेगा उसे खेत तालाब इस माध्यम से अकाल पर निजात पाने के लिए प्रयास किया जा रहा है. कई गाव पानी युक्त हुए हैं. लातूर जिले का कीर्तिमान शैक्षिक क्षेत्र में बड़े पैमाने पर है. लेकिन हमेशा जलसंकट का सामना करनेवाले लातूर जिले ने जलसंधारण क्षेत्र में बड़ी कामगिरी कर देश स्तरपर जलसंधारण के कामों में पहला पुरस्कार प्राप्त कर अकाल पर निजात पाई है. लातूर जिले का जलसंधारण में नया पैटर्न निर्माण करनेपर लातूरवासियों का श्री. फडणवीस ने अभिनंदन किया.

लातूर के रेल बोगी प्रकल्प के कारण परिसर के 15 से 20 हजार बेरोजगारों को रोजगार मिलेगा. इस प्रकल्प का काम गति से शुरू है. प्रकल्प की व्यापकता बढ़ने के बाद उद्योगों को बढ़ावा मिलेगा. साथ ही महिला बचत गुटों का जाल इस जिले में गतिमान हैं. इन बचत गुटों को बड़े पैमानेपर कर्ज का प्रावधान उपलब्ध करवाया गया है, ऐसा श्री. फडणवीस ने बताया.

राज्य सरकार ने अक्टूबर 2018 में राज्य में अकाल घोषित कर नवंबर और दिसंबर में केंद्रीय दलों द्वारा मुआयना किया. केंद्र सरकारने पांच हजार 400 करोड़ का निधि अकाल में उपाय योजनाओं के लिए मंजूर किया गया. राज्य सरकार द्वारा दो हजार करोड़ रुपये अबतक वितरित भी किए गए हैं, ऐसा श्री. फडणवीस ने बताया. असंगठित कामगारों के लिए पेन्शन योजना केंद्र द्वारा शुरू की गई हैं. तथा राज्य में निर्माणकार्य कामगारों को केंद्र के ढाई लाख और कामगार विभाग के दो लाख घरों के लिए दिए जा रहे हैं. देश में अबतक पांच लाख घरकुल के काम शुरू हैं. 2022 तक हर बेघर व्यक्ती को घरकूल मिलेगा, ऐसा उन्होंने बताया. राज्य के 10 लाख अतिक्रमण मंजूर करने की कार्यवाही शुरू हैं, ऐसा उन्होंने बताया.

नांदेड-लातूर रोड- गुलबर्गा इस रेलवे मार्ग के लिए केंद्रीय रेल मंत्री की ओर प्रयास किया जाएगा. यह रेल मार्ग मंजूर किया जाएगा और जरूरत पड़ने पर इस मार्ग के लिए राज्य सरकार 50 प्रतिशत आर्थिक सहयोग करेगी, ऐसा श्री. फडणवीस ने बताया.

देश में 2014 में पांच हजार किलोमीटर के महामार्ग थे. आज 22 हजार 436 किलोमीटर के महामार्ग हैं. आज लातूर जिले में जिला पैकेज के अंतर्गत औसा-चाकूर, चाकूर लोहा, मांजरा नदी पर बांध का निर्माण, लोखंडी सावरगाव से रेणापुर फाटा, लातूर से पानगांव, उमरगा से औसा,अहमदपुर से पिंपला, जहिराबाद से लातूर आदि रास्तों के कामों के लिए 11 हजार 680 करोड़ के कामों को मंजूरी दी गई है. इसमें तीन हजार 895 करोड़ के कामों का शुभारंभ आज हो रहा है, ऐसा केंद्रीय सड़क यातायात और महामार्ग मंत्री गडकरी ने कहा.

राज्य में जलसंधारन के काम उत्कृष्ट हुए हैं. मुख्यमंत्री फडणवीस तथा राष्ट्रीय जलपारितोषिक मिलने पर लातूर जिले के पालकमंत्री, जिलाधिकारी और नागरिकों का श्री. गडकरी ने अभिनंदन और सराहना की.

पिंजर-दमणगंगा प्रकल्प और तापी-नर्मदा प्रकल्प पूर्ण होने के बाद इस प्रकल्प का पानी गोदावरी में छोड़ा जाएगा जो जायकवाडी प्रकल्प में लाया जाएगा. इससे मराठवाड़ा का पानी प्रश्न हमेशा के लिए खत्म हो जाएगा और लगभग साढ़े पांच लाख हेक्टेयर खेतजमीन सिंचाई के अंतर्गत आएगा, ऐसा श्री. गडकरी ने बताया.

राज्य के शक्कर कारखानों द्वारा शक्कर के अलावा इथेनॉल निर्मिती की जाए. केंद्र सरकार 59 रुपये प्रति लीटर से इथेनॉल खरीदेगी ऐसा श्री. गडकरी ने बताया. फसल पद्धति में क्रांतिकारी परिवर्तन होने के बाद ही खेत माल को भाव मिलेगा. लातूर जिले में शैक्षिक पैटर्न तथा जलसंधारण पैटर्न निर्माण किया है. अब हरित पॅटर्न निर्माण करने के लिए लातूरवासियों द्वारा प्रयास किए जाए, ऐसा बताकर आष्टा मोड से उदगीर इस रास्ते के लिए 273 करोड़ का निधी मंजूर किए जाने की घोषणा श्री. गडकरी ने की.

लातूर के साथ मराठवाड़ा को पानी और रोजगार मिलना चाहिए तथा नांदेड-लातूर रोड- गुलबर्गा रेलवे मार्ग को मंजूरी मिलने और जिले के प्रत्येक नदी पर पुल के स्थान पर ब्रिज कम बैरेज के काम हो, ऐसी अपेक्षा पालकमंत्री संभाजी पाटिल निलंगेकर ने व्यक्त की. इस अवसर पर विधायक विनायक पाटिल ने भी अपना मनोगत व्यक्त किया. शिवलिंग शिवाचार्य महाराज ने देश को परम वैभाव की ओर ले जाने का आवाहन किया.

कार्यक्रम के आरंभ में जम्मू-काश्मीर के पुलवामा में हुए आतंकवादी हमले में शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पण की गई. इसके बाद मुख्यमंत्री फडणवीस और केंद्रीय मंत्री गडकरी ने छत्रपति शिवाजी महाराज के प्रतिमा का पूजन किया और दीपप्रज्वलन कर तथा डिजिटल पद्धति से बटन दबाकर विभिन्न विकासकामों का लोकार्पण और भूमिपूजन किया गया.

इस अवसर पर मुख्यमंत्री फडणवीस और केंद्रीय मंत्री गडकरी के हाथों 103 वर्ष पूर्ण करने के उपलक्ष्य में शिवलिंग शिवाचार्य महाराज का सत्कार किया गया.

प्रस्ताविक मुख्य अभियंता विनय कुमार देशपांडे ने किया तथा आभार रामभाऊ बेल्लाले ने व्यक्त किया. कार्यक्रम में परिसर के हजारों नागरिक उपस्थित थे.