रेशमबाग मैदान में संघ का विजयादशमी उत्सव, सरसंघचालक ने बताया एकता का पाठ

नागपुर: सीमा सुरक्षा मामले में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ ने जम्मू-कश्मीर की मेहबूबा मुफ्ती के नेतृत्ववाली सरकार को मर्यादा पालन की हिदायत दी है। सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत ने कहा है कि किसी भी राज्य को एकता का पाठ नहीं भूलना चाहिए। दलीय स्वार्थ हो सकते हैं पर देश के लिए सबका साथ जरूरी है। शासन का मतलब केवल केंद्र सरकार नहीं होता है। राज्यों का भी योगदान होता है।

केंद्र और राज्य के रिश्ते पर बोले सरसंघचालक
सीमा क्षेत्र की स्थितियों का जिक्र करते हुए सरसंघचालक ने केंद्र सरकार की सराहना की। साथ ही राज्य सरकार को आड़े हाथ लेते हुए कहा कि जहां दृढ़ता हो वहां कोताही नहीं चलेगी। केंद्र व राज्य की दिशा समान होनी चाहिए। 11 अक्टूबर को रेशमबाग मैदान में संघ के विजयादशमी उत्सव कार्यक्रम में सरसंघचालक, स्वयंसेवकों को संबोधित कर रहे थे। पूर्व प्रशासनिक अधिकारी सत्यप्रकाश राय प्रमुख अतिथि थे। सर्जिकल स्ट्राइक मामले पर केंद्र सरकार का अभिनंदन करते हुए सरसंघचालक ने कहा कि देश में सरकार के प्रति विश्वास जगा है।

सीमाओं की सुरक्षा में नहीं हो ढिलाई
अब सीमा क्षेत्र में बंदोबस्त व निगरानी की जिम्मेदारी बढ़ी है। सीमाओं की सुरक्षा में एक क्षण की ढिलाई महंगी पड़ सकती है। सीमा समीप के राज्यों में राष्ट्र विरोधी गतिविधियों को बढ़ावा देने का प्रयास होते रहता है। उपद्रव किए जाते हैं। तस्करी होती है। मादक पदार्थो की खेप पहुंचती है। विदेशी गुप्तचरों से साठ-गांठ होती है। इन गतिविधियों को रोकने के लिए राज्य सरकारों को सहयोग देना चाहिए। राज्य सरकारों के दलीय स्वार्थ हो सकते हैं, पर उसकी भी मर्यादा होनी चाहिए। विवादों के कारण जनता एक-दूसरे के खिलाफ हो, ऐसा न होने दें। संवाद माध्यमों को भी संयमता के साथ काम करना चाहिए। जिनकी दुकान कट्टरता पर चलती है, उनका प्रभाव भारत में भी है।

कौन-कौन थे मौजूद
यहां कट्टरता के स्वार्थों को पोषित करनेवाले भी मिल जाते हैं। जाति पंथ भाषा को लेकर भेद है, उसे और बढ़ाने का प्रयास होने लगता है। भेदभाव की घटना नहीं होनी चाहिए। यह भी है कि एकाध या अघटित घटना को आधार बनाकर सामाजिक भेद बढ़ाने का प्रयास होता है। प्रचार-प्रसार माध्यम में पैठ रखनेवाले लोग कुछ मामलों को बढ़ा-चढ़ाकर शासन व जनता के बीच विश्वास की कड़ी को तोड़ने लगते हैं। समाज को इतना सजग बनाएं कि वह किसी के छल कपट में न फंसे। कार्यक्रम में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, भूतल परिवहन मंत्री नितीन गडकरी व पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले संघ के गणवेश में उपस्थित थे। अभिनेता व सांसद मनोज तिवारी, गायिका अनुराधा पौडवाल, महापौर प्रवीण दटके के अलावा देश-विदेश के गणमान्य शामिल हुए।