थर्टी फर्स्ट की रात सुरक्षा का महाकवच लिए पहरा देंगे पडसलगीकर

Mumbai Police
Representational Pic

मुंबई: नए साल के जश्न पर मुंबई पुलिस की पैनी नजर होगी। इसके लिए पुलिस विभाग ने अपनी अभूतपूर्व तैयारियां पूरी कर ली है। सुरक्षा के लिहाज से पुलिस ने जो रणनीति बनाई है कि उसमे खासतौर से अधिकारियो को उनके इलाको में होनेवाली नए साल की बड़ी पार्टियों में सिविल ड्रेस पहनकर मौजूद रहने का आदेश दिया गया है ताकि वे महिला सुरक्षा के मामले में कोई चुक न हो सके। एक विशेष रूप से बनाई गई टीम में छोटे बड़े सभी दर्जे के पुलिसवाले शामिल है।

मुंबई पुलिस प्रवक्ता और डीसीपी अशोक दुधे के मुताबिक थर्टी फर्स्ट वाली रात शहर में सात हजार अतिरिक्त पुलिसकर्मी बंदोबस्त में मौजूद रहेंगे। जिन्हें खास तौर से महिलाओ की सुरक्षा करने का आदेश दिया गया है। सात हजारी पुलिसिया टीम में 3500 कांस्टेबल, 550 महिला पुलिसकर्मी, 20 महिला पुलिस निरीक्षक, 70 सहायक पुलिस उपनिरीक्षक, 70 पुलिस निरीक्षक और 120 सहायक पुलिस निरीक्षक मौजूद रहेंगे। सभी पुलिसवालो की छुट्टियां रद्द कर दी गई है जबकि पुलिस आयुक्त दत्ता पडसलगीकर खुद भी पूरी रात जागकर अपने अधिकारियो के साथ शहर भर में अपनी निगाह बनाये रखेंगे।

बड़े दर्जे के पांच संयुक्त पुलिस आयुक्त, नौ अतिरिक्त पुलिस आयुक्त, 35 डीजीपी और 74 एसीपी भी सुरक्षा करने में शामिल होंगे। इसके अलावा 100 महिला छेड़छाड विरोधी टीमे, दो एसआरपीएफ की टुकड़ियां, 500 होमगार्ड, 5500 स्वयंसेवक, गुमशुदा लोगो को तलाशने वाली टीमे और क्विक रिस्पांस टीम भी सड़को पर सुरक्षा देने में तैनात रहेगी। इस सुरक्षा घेरे में पांच ड्रोन कैमेरो का इस्तेमाल भी किया जायेगा।

गौरतलब है कि जश्न के नाम पर कई मनचले और हुडदंगी खास तौर से महिलाओ के साथ बदसलुकी कर देते है। पुलिस ने महिलाओ से कहा कि यदि ऐसा होता है तो वे बेहिचक अपने नजदीकी पुलिस से संपर्क करे। बीते समय में महिलाओ के साथ घटित हुई अप्रिय घटनाओ के कारण पुलिस महकमे को शर्मिंदगी का सामना करना पड़ा था। जिससे सबक लेते हुए इस बार सुरक्षा का महाकवच बनाया गया है।