पीएम मोदी ‘परिवार’ का महत्व क्या जानें- ममता बनर्जी

Mamta-Modi

नई दिल्ली :- पश्चिम बंगाल की सीएम ममता बनर्जी ने कूचबिहार की एक रैली में पीएम पर आपत्तिजनक टिप्पणी करते हुए कहा कि क्या प्रधानमंत्री ने बंगाल को कोई मदद दी। मोदी के पास किसानों और मध्य वर्ग की समस्याओं पर ध्यान देने का वक्त नहीं था क्योंकि वे अपने पांच साल के कार्यकाल में साढ़े चार साल दुनिया ही घूमने में व्यस्त रहे। उन्होंने कहा कि भारत में विभिन्न धर्मों के लोग मिलजुलकर रहते हैं लेकिन पीएम मोदी ये कैसे जानेंगे? क्योंकि उनका परिवार ही नहीं है और ना ही वो आप लोगों को परिवार मानते हैं।

मोदी को सत्ता और राजनीति से बाहर करना चाहिये और उनके मुंह को चिपकने वाले सर्जिकल टेप से बंद कर देना चाहिये।बनर्जी ने आरोप लगाया कि जब चुनाव नजदीक आ रहे हैं तो मोदी हर किसी को डरा धमका रहे है और झूठ बोल रहे हैं। उन्होंने दावा किया कि अगर झूठ बोलने की कोई प्रतियोगिता हुई तो मोदी को उसमें पहला पुरस्कार मिलेगा।

न्होंने कहा, ‘इस चुनाव में लोग उनके होठों पर ल्यूकोप्लास्ट चिपका देंगे ताकि वे झूठ ना बोल पाएं। देश के खातिर उन्हें ना केवल कुर्सी (प्रधानमंत्री पद) बल्कि राजनीति से भी बाहर करना चाहिए।’ ‘पांच साल के दौरान वह साढ़े चार साल दुनिया घूमते रहे। जब देशभर में किसान आत्महत्या कर रहे थे तो वे क्या कर रहे थे? जब नोटबंदी के कारण लोग मर रहे थे और करोड़ों लोगों ने अपनी नौकरियां गंवाई तो वह क्या कर रहे थे?’

रविवार को कूचबिहार जिले में प्रधानमंत्री की इस टिप्पणी पर कि बनर्जी और तृणमूल कांग्रेस मोदी के भय की मानसिकता से पीडि़त हैं, पर पलटवार करते हुए बनर्जी ने उन्हें आगाह किया कि वह उन्हें धमकाए नहीं क्योंकि ऐसा करना उनकी सबसे बड़ी भूल होगी।

यह भी पढ़ें : भाजपा का घोषणापत्र कांग्रेस ने बताया झांसा पत्र