नीतिगत नियोजन के लिए ‘सीएम-फेलोज’ के निरीक्षण महत्वपूर्ण साबित होंगे- मुख्यमंत्री

‘इंटरअँक्शन विथ सीएम फेलोज’ कार्यक्रम में संवाद

CM fadnavis

मुंबई : सीएम फेलोज के अभ्यासपूर्ण निरीक्षणों की मदद से सरकारी योजनाओं के लिए नीतिगत नियोजन करना संभव होगा, ऐसा प्रतिपादन मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज किया.

‘चीफ मिनिस्टर फेलोशीप प्रोग्रॅम’ अंतर्गत 2018 के बैच के सीएम-फेलोज के साथ मुख्यमंत्री श्री. फडणवीस ने आज यहां ‘इंटरअॅक्शन विथ सीएम फेलोज’ कार्यक्रम में संवाद किया. मुख्यमंत्री के वर्षा सरकारी निवासस्थान पर यह कार्यक्रम हुआ.

मुख्यमंत्री श्री. फडणवीस ने कहा कि, फेलोज द्वारा उन्हे दिए गए विषयों पर संशोधन कर अभ्यासपूर्ण मुद्दों को सामने लाया है. इसमें उनकी मेहनत दिखाई देती है. शिक्षा, महिला सक्षमीकरण, महिला स्वास्थ्य, कृषी तथा औद्योगिक और प्रकल्प पुनर्वसन, महिला बाल कल्याण क्षेत्र के यह सभी विषय अत्यंत महत्वपूर्ण है. इसमें विषय के अनुरूप फेलोज द्वारा कई अंगों से सूक्ष्म अभ्यास किया है. महिलाओं के स्वास्थ्य के विषय में और विशेष रुप से बच्चों में शैक्षिक पाठ्यक्रमों के माध्यम से जनजागृति करने के लिए भी प्रयास किया जा सकता है. महिलाओं के लिए रोजगार के अवसर को बढ़ावा देना होगा. इसके बजाए आर्थिक विकास का उद्द‍िष्ट साध्य नहीं कर सकेंगे. महिलाओं के ऊपर होनेवाले अत्याचार पर प्रतिबंध लाने के लिए महिला आयोग को और सक्षम करने के लिए निश्चित तौर पर प्रयास किए जाएंगे. विशेष रूप से महिलाओं के संदर्भ में अनिष्ट सामाजिक प्रथा परंपराओं पर पाबंदी लाने के लिए आधुनिक आधुनिक तंकनिकी, अॅप आदि का भी उपयोग किया जा सकता है. बाल लैंगिक शोषण प्रतिबंधक कानून के प्रभावी अमल के लिए विविध घटकों की क्षमता निर्माण की जाएगी. इसके लिए सूक्ष्म नियोजन किया जाएगा, ऐसा उन्होंने कहा.

फेलोज द्वारा विभिन्न विषयों का अभ्यास कर महत्त्वपूर्ण निरीक्षण रखे हैं. इस उपक्रम के कारण फेलोज लोगों के साथ सुसंवाद करते हैं. इससे लोगों का अलग दृष्टिकोण सरकार तक पहुंचता है. इस कारण और नीतिगत लेना सरकार के लिए संभव होता है, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा.

इस समय सीएम फेलोज ने अभ्यास के लिए दिए गए विभिन्न प्रकल्प-योजनाओं के रिपोर्ट प्रस्तुत किया. श्रीमती खान ने प्रास्ताविक किया और विभिन्न अभ्यास प्रकल्पों की जानकारी दी.

इस समय वित्त एवं नियोजन विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव देबाशीष चक्रवर्ती, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव भूषण गगराणी, मुख्यमंत्री के विशेष कार्य अधिकारी प्रिया खान, कौस्तुभ धवसे, अर्थ एवं सांख्यिकी संचालनालयाचे संचालक र. र. शिंगे आदी उपस्थित थे.