नक्सलियों ने बैनर लगाकर ली गढ़चिरौली हमले की जिम्मेदारी, किया इनका विरोध

Naxalite-Banner

गढ़चिरौली :- नक्सलियों ने गढ़चिरौली में लैंड माइंस विस्फोट के बाद दादापूर गांव में बैनर लगाकर हमले की जिम्मेदारी लेते हुए उस इलाके में सड़क निर्माण में लगी कंपनियों और ठेकेदारों को धमकी दी है। मंगलवार की रात नक्सलियों ने कंस्ट्रक्शन कंपनी की लगभग 50 गाड़ियों को जलाने की जिम्मेदारी ली है। इसे नक्सली कमांडर रामको नरोटी और अन्य महिला नक्सलियों की हत्या का विरोध बताया गया है। साथ ही अन्य नक्सलियों को भी विरोध करने का आह्वान बैनर के जरिए किया गया है। बुधवार को महाराष्ट्र के गढ़चिरौली में एक बड़ा नक्सली हमला हुआ था। इस हमले में महाराष्ट्र पुलिस के 15 जवान शहीद हो गए।

यह समाचार भी पढियें : छत्‍तीसगढ़ में नक्‍सलियों ने की दो ग्रामीणों की हत्‍या

नक्सलियों ने यहां दो बैनर लगाए हैं। दूसरे में पुल और सड़क निर्माण का विरोध किया गया है। साथ ही कहा गया है कि सरकार पूंजीपतियों की कठपुतली बन गई है। नक्सलियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस का विरोध करने का आह्वान किया है। नक्सलियों ने जिस गांव में बैनर लगाए हैं, वह हमले की जगह से 10 किलोमीटर की दूरी पर है। यहां अब पुलिस ने ऑपरेशन शुरू कर दिया है। महाराष्ट्र के पुलिस महासंचालक सुबोध जयसवाल ने घटनास्थल पर जाकर मुआयना किया है।

यह भी पढ़ें  : गढ़चिरौली : नक्सलियों ने की तीन की हत्या