सोलापुर के ग्रामीण भाग में मतदान केंद्र के बजाय पानी के लिए लंबी कतार

Long queues for water instead of polling in rural part of Solapur

सोलापुर : आज पुरे महाराष्ट्र में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण का मतदान है। जहाँ कोई मतदान के लिए जागरूकता फैला रहा है तो कोई उसका पालन कर अपने मत का इस्तेमाल कर रहा है। लेकिन सोलापुर जिले में एक ग्रामीण भाग ऐसा है जहाँ मतदान केंद्र में लंबी कतार की जगह लोग पीने के पानी के लिए लंबी कतार में खड़े है।

दरअसल, सोलापुर में ग्रामीण क्षेत्र है कासेगाव जहाँ ग्रामीणों के मतदान से अधिक महत्वपूर्ण पानी है। सोलापुर जिले में सूखे की वजह से सभी जगह पानी की कमी दिखाई दी, इसका असर मतदान पर भी देखने को मिला। मतदान केंद्र के बाहर की भीड़ से अधिक भीड़ पानी के लिए दिखी।

गौरतलब है, सोलपुर लोकसभा क्षेत्र में सुबह से मतदान शुरू होने के बाद मतदान यंत्र में खराबी का मामला सामने आया। इसका परिणाम मतदान पर होने की शिकायत भी सामने आई। बढ़ते तापमान की वजह से मतदान केंद्र ठीक नहीं होने का बताया गया। हालांकि, सुबह आठ-नौ बजे तापमान अधिक नहीं है, फिर भी परेशानी के कारण मतदान कम हो रहा है। मतदाताओं को मतदान केंद्र पर मतदान के लिए इंतजार करना पड़ा। सुबह के पहले दो घंटों में ७ प्रतिशत मतदान हुआ।

यह भी पढ़ें : मतदान शुरू होते ही ईवीएम-वीवीपीएटी में आई तकनीकी खराबी

सोलापुर शहर में पांच दिन पानी की आपूर्ति होती है। जिन इलाकों में गुरुवार को पानी की आपूर्ति की गई थी, वहां के मतदाता विशेषकर महिला मतदाताओं ने पानी के लिए मतदान करने के बाद घर से बाहर निकलना पसंद किया। ग्रामीण क्षेत्रों में भी ग्रामीणों को पानी की समस्या का सामना करना पड़ता है। दक्षिण सोलापुर तालुका के कोसगाँव क्षेत्र में पानी महत्वपूर्ण था। पानी की एक बड़ी कतार पानी में मिल गई थी।

सोलापुर में, पहले दो घंटे बहुत धीमी गति से मतदान हुआ। इसमें केवल ५.६५ प्रतिशत (एक लाख ४६१६ मतदान केंद्र १२ प्रतिशत और केवल ४.०६ प्रतिशत महिलाएँ) मतदान हुआ।