प्रधान मंत्री जन स्वास्थ्य योजना के जरिए से स्वास्थ्य सेवाओं का विकेंद्रीकरण आवश्यक- मुख्यमंत्री

Hon CM at Shantilal Meghe superspeciality Centre Prog 1
  • • सुपर स्पेशलिटी के कारण गुणवत्ता में वृद्धि
  • • मेघा संस्थान सार्वजनिक स्वास्थ्य योजना में सबसे अव्वल
  • • वर्धा जिले में जल्द ही स्वास्थ्य शिविर
  • • ग्रामीण हेल्थ केयर में निवेश के अवसर

वर्धा: महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज यहां कहा कि दुनिया की सबसे बड़ी स्वास्थ्य सेवा प्रधान मंत्री सार्वजनिक स्वास्थ्य योजना नागरिकों को पांच लाख रुपये तक की स्वास्थ्य सुविधा प्रदान करती है। इसके चलते स्वास्थ्य सेवाओं के विकेन्द्रीकरण हो रहा है और ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों को अच्छी गुणवत्ता वाले स्वास्थ्य सेवाएं मिलेंगी।

मुख्यमंत्री सावांगी मेघे में शालिनाई मेघे सुपर स्पेशलिटी सेंटर के उद्घाटन करने के बाद आयोजित एक समारोह में बोल रहे थे। इस अवसर पर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितिन गडकरी, सांसद रामदास तडस, विधायक अरुण अडसड, डॉ पंकज भोयर, समीर कुणावर, सागर मेघे, दत्ता मेघे डिम्ड यूनिवर्सिटी के कुलपति दत्ता मेघे, शालिनीताई मेघे, वेद प्रकाश मिश्रा, वोखार्ड अस्पताल के निदेशक डॉ. झाबियाजी खोराकीवाला आदि मौजूद थे।

मुख्यमंत्री श्री. फडणवीस ने कहा कि प्रधान मंत्री जनआरोग्य योजना के चलते 50 करोड़ नागरिकों को स्वास्थ्य सुविधा का कवच मिल रहा है। इस योजना में प्रत्येक पात्र व्यक्ति को पांच रुपये लाख तक की स्वास्थ्य सुविधाओं को पाने की सुविधा मिलेगी। इस योजना के कारण लाभ दूरदराज और ग्रामीण क्षेत्रों के नागरिक उपचार खर्च वहन करने में सक्षम हुए हैं। स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने वाले निजी संगठनों के लिए ग्रामीण क्षेत्रों में निवेश करने के नए अवसर पैदा हुए हैं। उनके निदेश के बाद नागरिकों उत्तम स्वास्थ्य सेवा प्राप्त हो सकेगी।

राज्य सरकार ने जरूरतमंद मरीजों के स्वास्थ्य की देखभाल के लिए महात्मा फुले जन आरोग्य योजना शुरू की गई थी। इस योजना के तहत राज्य में सबसे ज्यादा इलाज करने वालों में मेघे अस्पताल भी शामिल है। यहां इलाज की हर तरह की आधुनिक (स्टेट-ऑफ-आर्ट) सुविधाएं उपलब्ध हैं। यहां के सुपर स्पेशालिटी सेंटर के माध्यम से निश्चित रूप से स्वास्थ्य सुविधा की गुणात्मक वृद्धि करने में मदद मिलेगी।

ग्रामीण क्षेत्रों में सार्वजनिक स्वास्थ्य सुविधाएं उपलब्ध कराने के लिए तालुका स्तर तक स्वास्थ्य शिविर लगाना जरूरी है। शिविरों में रोगियों का उपचार और उसके बाद जरूरी ऑपरेशन करना आवश्यक है। इसके लिए प्रधान मंत्री जनआरोग्य योजना, महात्मा फुले जनआरोग्य योजना, मुख्यमंत्री मेडिकल सहायत्ता निधि जैसी तीन योजनाओं के माध्यम से आरोग्य शिविर में मदद की जाएगी।

Hon CM at Shantilal Meghe superspeciality Centre Prog 2

श्री गडकरी ने कहा कि देश में आठ लाख डॉक्टर की सख्त जरूरत है। डॉक्टरों के ग्रामीण क्षेत्रों में जाने के लिए तैयार न होने से निजी संस्थानों स्वास्थ्य सुविधा उपलब्ध कराने के लिए आगे आना चाहिए। इसके अलावा ग्रामीण भागों में सरकारी स्वास्थ्य सेवा में सुधार करने की जरूरत है। इन क्षेक्षों में अच्छे डॉक्टरों की सेवाओं की जरूरत है। लिहाजा, अस्पताल शुरू करने का काम कॉरपोरेट सेक्टर ही कर सकता है। निजी क्षेत्र को स्वास्थ्य सेवा के लिए ग्रामीण भागों का चयन करना चाहिए। स्वास्थ्य सेवा में सुधार के लिए इसमें स्पर्धा बहुत जरूरी है। इसका लाभ मरीजों को मिलेगा। मेडिकल सेक्टर में सामाजिक भावना से कार्य करने की जरूरत है। विदर्भ में अच्छी स्वास्थ्य सेवा देने में मेघे का अस्पताल और मेडिकल कॉलेज का बड़ा योगदान है।

इस अवसर पर सांसद रामदास तडस, विधायक पंकज भोयर, दत्ता मेघे, वेदप्रकाश मिश्रा,वोखार्ट अस्पताल के निदेशक झाबियाजी खोराकीवाला ने भी अपने विचार व्यक्त किए। दत्ता मेघे के हाथों मेघे ग्रुप की ओर से मुख्यमंत्री सहायता निधि के लिए 45 लाख रुपए का चेक मुख्यमंत्री को सौंपा गया। समीर मेघे ने शुरूआती भाषण दिया। सागर मेघे ने आभार व्यक्त किया।