सरकार किसानों के समर्थन में काम करेगी- मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

व्हिएसआई की वार्षिक आम बैठक, पुरस्कार समारोह के साथ संपन्न

CM Thackeray

पुणे: चीनी उद्योग किसानों की रीढ़ है और किसानों के लाभ के लिए, राज्य सरकार चीनी उद्योग के पीछे मजबूती से खड़ी रहेगी| मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज कहा कि सरकार किसानों हित मे काम करेगी| उन्होंने यह भी कहा कि राज्य सरकार मराठवाड़ा में वसंतदादा शुगर इंस्टीट्यूट की एक शाखा शुरू करने के लिए स्थान प्रदान करने के लिए तत्काल निर्णय लेगी| पुणे स्थित मांजरी में वसंतदादा शुगर इंस्टीट्यूट की 43 वीं वार्षिक आम बैठक का उद्घाटन और पुरस्कार वितरण मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे के हाथों संपन्न हुआ| उस समय उन्होंने यह बात कहीं|

इस समय पूर्व केंद्रीय मंत्री और संगठन के अध्यक्ष शरद पवार, सहकारिता और वित्त मंत्री जयंत पाटिल, राजस्व मंत्री बालासाहेब थोरात, वसंतदादा शुगर इंस्टीट्यूट के उपाध्यक्ष दिलीप वळसे-पाटील, विधायक अजित पवार, राजेश टोपे, बाळासाहेब पाटील, इंडियन शुगर इंस्टिट्यूट के अध्यक्ष रोहित पवार, पूर्व मंत्री विजयसिंह मोहिते पाटिल, हर्षवर्धन पाटील, कलाप्पा आवाडे, जयप्रकाश दांडेगांवकर, संस्थाके महानिदेशक शिवाजीराव देशमुख आदी उपस्थित थे|

मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आगे कहा, वसंतदादा चीनी संस्थान का महाराष्ट्र के चीनी उद्योग में बड़ा योगदान है| नई तकनीक वीएसआई के जरिए किसानों तक पहुंच रही है| यही कारण है कि चीनी उत्पाद में महाराष्ट्र देश में अव्वल है| आज चीनी उद्योग के सामने कई समस्याएं हैं| उन्हें सुलझाने के लिए सरकार की ओर से विशेषज्ञ समिति का गठन किया जाएगा| और रचनात्मक निर्णय लिया जायेगा| सरकार ने किसानों का 2 लाख रुपये तक का कर्ज माफ करने का फैसला किया है| सरकार 2 लाख रुपये से अधिक के ऋण वाले किसानों पर भी विचार कर रही है और बैंकों से इस संबंध में जानकारी मांगी है| उन्होंने कहा कि सरकार इस बारे में सकारात्मक है और नियमित ऋण चुकानेवाले किसानों के लिए भी योजना लाएगी|

चीनी की उत्पादकता बढ़ाने के अलावा, उपपदार्थों के उत्पादन पर जोर देने की आवश्यकता है| उन्होंने कहा कि चीनी कारखानों और किसानों को सरकार के साथ मिलकर काम करने की जरूरत है ताकि गन्ना उद्योग एक स्थायी आय उद्योग की तरह कायम रह सके|

संगठन के अध्यक्ष शरद पवार ने कहा, चीनी व्यवसाय महाराष्ट्र में ग्रामीण प्रणाली का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है| व्यवसाय राज्य के लिए अच्छे वित्तीय लाभ उत्पन्न कर रहा है| गन्ने की उत्पादकता और गुणवत्ता बढ़ाने के लिए, प्रत्येक कारखाने को गन्ना विकास कर्यक्रम लागू करने की आवश्यकता है|

सहकारिता मंत्री जयंत पाटिल ने कहा, चीनी उद्योग मुश्किल हालातों से गुजर रहा है| पिछले साल के सूखे और इस साल गैर मौसमी बारिश ने किसानों को भारी नुकसान पहुंचाया है| चीनी कारखानों में को-जनरेशन परियोजनाएं किसानों को उच्च गन्ना दर देने का एक तरीका है| उन्होंने कहा कि सहकारी चीनी कारखाना किसानों के आर्थिक सशक्तीकरण की कुजी है|

इस समय तकनीकी प्रदर्शन रिपोर्ट, डिस्टलरी रिपोर्ट, वित्तीय प्रदर्शन रिपोर्ट और चीनी संघ कैलेंडर का विमोचन तथा व्हीएसआय की ओर से विभिन्न पुरस्कारों का वितरण मुख्यमंत्री के हाथों किया गया| कार्यक्रम में राज्य के गन्ना कारखानों के अधिकारी, सदस्य और किसान बड़ी संख्या में उपस्थित थे|