राज्य के सिंचाई प्रकल्पों के कारण पौने चार लाख हेक्टेयर क्षेत्र सिंचित होगा – प्रधानमंत्री

PM_DHULE_DIO_16.02 (5)
  • धुलिया- नरडाणा रेलमार्ग, सुलवाडे- जामफल- कनोली
  • उपसा सिंचाई योजनाओं के साथ विभिन्न योजनाओं का लोकार्पण और भूमिपूजन संपन्न

    धुलिया : देश के साथ साथ महाराष्ट्र के प्रलंबित सिंचाई प्रकल्पों की पूर्ति के लिए प्रधानमंत्री सिंचाई कृषि योजना का अमल किया जा रहा है. इस योजना के अंतर्गत देश के 99 प्रकल्पों में से महाराष्ट्र के 26 प्रकल्पों का समावेश हैं. इन प्रकल्पों से तीन लाख 75 हजार हेक्टेयर क्षेत्र सिंचाई के तहत आएगा, ऐसा प्रतिपादन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज किया.

प्रधानमंत्री श्री. मोदी के हाथों बलीराजा जलसंजीवनी योजना के अंतर्गत 2407.67 करोड़ रुपये खर्च कर होनेवाली सुलवाडे- जामफल- कनोली उपसा योजना का भूमिपूजन, प्रधानमंत्री कृषी सिंचाई योजना के तहत निम्न पांझरा मध्यम प्रकल्प का (अक्कलपाडा) लोकार्पण समारोह, धुलिया- नरडाणा नए रेल मार्ग और जलगाव- मनमाड तीसरे रेल मार्ग का भूमिपूजन, धुलिया महानगरपालिका के लिए भारत सरकार के ‘अमृत’ योजना के अंतर्गत अक्कलपाडा बांध से धुलिया शहर के लिए जलापूर्ति योजना और भुयारीनाली योजना एक का भूमिपूजन किया गया. साथ ही उनके हाथों भुसावल- वांद्रे टर्मिनस के बीच दौड़नेवाली खानदेश एक्स्प्रेस, उधना- नंदुरबार और उधना- पालधी मेमू ट्रेन को भी वीडियो कॉन्फरन्सिंग के द्वारा हरि झंडी दिखाकर शुभारंभ किया गया. इस अवसर पर गोशाला मैदानपर आयोजित कार्यक्रम में वे बोल रहे थे.

कार्यक्रम में राज्यपाल सी. विद्यासागर राव, मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस, केंद्रीय जलसंसाधन, सड़क परिवहन, नदी विकास और गंगा संरक्षण मंत्री नितीन गडकरी, केंद्रीय संरक्षण राज्यमंत्री डॉ. सुभाष भामरे, राज्य के वैद्यकीय शिक्षण, जलसंपदा और लाभक्षेत्र विकास मंत्री गिरीष महाजन, रोजगार गारंटी योजना और पर्यटन मंत्री जयकुमार रावल, सांसद रावसाहेब दानवे, ए. टी. पाटिल, डॉ. हीनाताई गावित, हरिश्चंद्र चव्हाण, विधायक एकनाथराव खडसे, महापौर चंद्रकांत सोनार आदि उपस्थित थे.

प्रधानमंत्री श्री. मोदी ने कहा, निम्न पांझरा प्रकल्प एक महत्वपूर्ण प्रकल्प है. इसपर 550 करोड़ खर्च कर प्रकल्प पूर्ण किया जाएगा. राज्य में पानी की किल्लत के साथ साथ अकाल की स्थिति को दूर करने के लिए केंद्र सरकार की ओर विशेष प्रयास किए जा रहे हैं. कई सालों से अटके प्रकल्पों को गति दी जा रही हैं. मराठवाडा, विदर्भ और अन्य अकाल पीड़ित क्षेत्रों में 91 योजनाओं को मंजूरी दी गई है, इसपर 14 हजार करोड़ खर्च किए जाएंगे, ऐसा उन्होंने कहा.

आयुषमान भारत योजना में पाच लाख रुपयों तक मुक्त उपचार किए जाते हैं. इससे गरीब मरीजों को लाभ हुआ है. अबतक देश के 12 लाख तथा राज्य के 70 हजार और धुलिया जिले के 1800 मरीजों को इस योजना का लाभ मिला है. इस योजना के 20 लाभार्थी धुलिया और जलगाव जिले आए है, उनसे आज संवाद किया, तब उनके चेहरे पर समाधान दिखाई दिया, ऐसा भी उन्होंने कहा.

धुलिया शहर खानदेश का शिरोमणि – मुख्यमंत्री

मुख्यमंत्री श्री. फडणवीस ने कहा, गुजरात और मध्य प्रदेश राज्य के लिए धुलिया जिला महाराष्ट्र का प्रवेशद्वार है. इस जिले से 7 राष्ट्रीय महामार्ग जाते हैं. सात राष्ट्रीय महामार्गयुक्त यह देश का एकमात्र जिला हैं. यहां लॉजिस्टिक हब तैयार होनेलायक भौगोलिक रचना है. प्रधानमंत्री श्री. मोदी ने धुलिया शहर की क्षमता पहचानी है. आगामी समय में मुंबई-दिल्ली कॉरिडॉर महत्वाकांक्षी प्रकल्प पूरा होगा. इससे बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर उपलब्ध होंगे. साथ ही रेलवे, महामार्ग, पानी की उपलब्धता से इस शहर का चेहरा बदलेगा, ऐसा मुख्यमंत्री ने कहा.

केंद्रीय मंत्री श्री. गडकरी ने कहा, प्रधानमंत्री श्री. मोदी के मार्गदर्शन के अकाल की स्थिति का निवारण करने के लिए उपयोगी सुलवाडे- जामफल योजना की जिम्मेदारी जलसंसाधन मंत्रालय ने उठाई और उसको गति दी. इस योजना का लाभ धुलिया और सिंदखेड़ा तहसील को होगा. इस योजना के लिए 25 प्रतिशत भारत सरकार, तथा 75 फीसदी नाबार्ड की ओर कर्ज की उपलब्धता होगी. इस प्रकल्प से डेढ़ लाख एकड़ क्षेत्र सिचाई के तहत आएगा. साथ ही मनमाड- इंदूर रेल्वे मार्ग के लिए 9 हजार करोड़ का खर्च अपेक्षित हैं. इस मार्ग के बनने के बाद इंदूर-मुंबई की दूरी कम होगी. साथ ही जिले में विविध महमार्गों के चौपाहीकरण के काम शुरू हैं. विभिन्न विकासकामों से धुलिया जिले का रूप बदलेगा, ऐसा श्री. गडकरी ने बताया.

शहीद जवानों को आदरांजली

इस कार्यक्रम के आरम्भ में पुलवामा (जम्मू- काश्मीर) जिले में आतंकी हमले में शहीद जवानों को दो मिनट स्तब्ध रहकर आदरांजली अर्पित की गई.

PM_DHULE_DIO_16.02 (1)

प्रधानमंत्री ने अहिराणी से की भाषण की शुरुवात

प्रधानमंत्री श्री. मोदी ने अपने भाषण की शुरुवात स्थानीय बोलीभाषा अहिराणी से की. उन्होंने कहा, ‘आठे जमेल खानदेशना तमाम भाऊ- बहिनीसले मना मन:पूर्वक नमस्कार. तुमी इतला लोके, माले आशीर्वाद देवाले उनात. मी तुमना आभारी शे. खानदेशना लोकेसना जिव्हाळाना प्रकल्प मा, मी सहभागी व्हयनू येना माले आनंद शे.’’, ऐसा कहकर प्रधानमंत्री श्री. मोदी ने धुलिया के नागरिकों के मन मोह लिए.