नागरिकता संशोधन कानून से ना डरे, राज्य में शांतिपूर्ण वातावरण बनाए रखें- मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे

Citizenship Amendment Law - Thackeray

मुंबई :- ‘नागरिकता सुधार कानून को लेकर देशवासी गलत धारणाओं का शिकार ना हो. राज्य में किसी भी जाति या धर्म के नागरिक के अधिकार को राज्य सरकार क्षति नहीं पहुंचने देगी’ यह विश्वास मुस्लिम समाज के प्रतिनिधि मंडल को देते हुए राज्य में शांतिपूर्ण वातावरण बनाए रखने का आह्वान मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आज किया.

राज्य के अलग अलग भागों तथा मुंबई के मुस्लिम समाज के प्रतिनिधि मंडल ने मुख्यमंत्री से आज सयाद्री अतिथिगृह में भेंट की. इस समय गृहमंत्री एकनाथ शिंदे, उद्योग मंत्री सुभाष देसाई, विधायक अमीन पटेल, अब्दुल सत्तार, अबू असीम आजमी, पूर्व मंत्री नवाब मलिक, पुलिस महानिदेशक सुबोध कुमार जयसवाल, मुंबई पुलिस आयुक्त संजय बर्वे, मुस्लिम समाज के धर्मगुरु तथा अन्य उपस्थित थे.

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि राष्ट्रीय नागरिक पंजीकरण, अर्थात एनआरसी, को लेकर अभी कोई निर्णय नहीं हुआ है और हमने इसकी पूरी जानकारी प्राप्त की है. उन्होंने कहा कि यदि यह कानून लाया ही गया तो वह सिर्फ मुस्लिम समाज के लिए नहीं अपितु सभी जाति-धर्म के लोगों के लिए एक समान होगा. मुख्यमंत्री श्री ठाकरे ने आगे कहा की नागरिकता संशोधन कानून और एनआरसी के अनुसार राज्य में एक भी डिटेंशन कैंप स्थापित नहीं होगा. उन्होंने डिटेंशन कैंप को लेकर गलत धारणाएं फैलाए जाने की बात कही. उन्होंने स्पष्ट किया कि भारत में नशीले पदार्थ तथा गंभीर अपराधों के लिए सजा भुगत चुके विदेशी नागरिकों के आवास के लिए यह प्रबंध होता है. विदेशी नागरिकों को उनके देश में वापस भेजने से पूर्व दस्तावेजों की पूर्ति करने तक इन लोगों को डिटेंशन कैंप में रखा जाता है और इस कारण ऐसे केम्पस को लेकर राज्य में और देश के लोग ना डरे, यह अपील भी उन्होंने की.

मुख्यमंत्री श्री ठाकरे ने कहा कि नागरिकता सुधार कानून को लेकर देश में अशांति मची हुई है तथा डर का माहौल है. उन्होंने कहा कि इसको लेकर अनेक मुद्दों पर गलतफहमियां फैली हुई है. देशभर में इस कानून के विरोध में आंदोलन किए जा रहे हैं और कहीं जगह पर इस दौरान हिंसा की वारदातें भी हुई है. इसके चलते डर का माहौल बना हुआ है. उन्होंने कहा कि ऐसे कठिन समय में सभी को साथ मिलकर महाराष्ट्र में शांति स्थापित करने की आवश्यकता है और यही हमारे राज्य की परंपरा है. उन्होंने कहा कि शांति के लिए सभी को प्रयास करने होंगे और किसी के भी अधिकार का हनन नहीं होगा. उन्होंने आश्वस्त किया कि ऐसा होने पर सरकार पूरी तरह से उसके साथ खड़ी होगी.

श्री ठाकरे ने कहा कि महाराष्ट्र ने हमेशा से देश को सही दिशा दिखाई है. यह राज्य छत्रपति शिवाजी महाराज के विचारों पर चलता है. नई पीढ़ी को उचित दिशा दिखाने की जवाबदेही हम सभी की हैं. उन्होंने बताया कि युवाओं में बेरोजगारी को लेकर असंतोष बना हुआ है और ऐसे समय में उन्हें सही दिशा देने की जिम्मेदारी हमें निभानी होगी. श्री ठाकरे ने कहा कि पूर्व राष्ट्रपति डॉ एपीजे अब्दुल कलाम ने भारत को महासत्ता बनाने का स्वप्न देखा था और इसकी पूर्ति के लिए हम सबको साथ मिलकर प्रयास करने होंगे.