जिस्म फरोशी भी अब कैशलेस, समाजसेवा शाखा सतर्क

मुंबई : सरकार कर चोरी रोकने के लिए लोगों को कैशलेस (नकदी रहित) लेन देने के लिए प्रेरित कर रही है। लेकिन एक ऐसा अवैध कारोबार है जो पकड़ में आने से बचने के लिए कैशलेस हो रहा है। आप जानकर हैरान हो जाएंगे कि देह व्यापार से जुड़े दलाल इन दिनों सामने आने और नकदी लेने से परहेज कर रहे हैं। वे या तो पैसे किसी खाते में जमा कराते है या इसे लड़की को देने को कहते हैं। हालांकि पुलिस ने ऐसे लोगों पर भी शिकंजा कसना शुरू कर दिया है।

दरअसल देह व्यापार से जुड़े कानून पीटा की कार्रवाई के दौरान पुलिस महिलाओं को आरोपी नहीं बनाती। उन्हें इस दलदल से बाहर निकलाकर सुधार गृह में भेजा जाता है जबकि सौदेबाजी करने वाले दलालों को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ कानूनी कार्रवाई की जाती है। लेकिन देह के दलालों ने इसे बचने का हथियार बना लिया है। देह व्यापार से जुड़े ज्यादातर मामलों में कार्रवाई करने वाली मुंबई पुलिस की समाजसेवा शाखा से जुड़े सीनियर इंस्पेक्टर रविंद्र गिड्डे ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में हमारे सामने कई ऐसे मामले आए जिसमें संपर्क करने पर दलालों ने या तो पैसे किसी खाते में जमा करने को कहा या लड़की को देने को कहा। इंस्पेक्टर प्रवीण कदम ने बताया कि दो दिन पहले एक मामले में हमने एक शख्स के जरिए दलाल से संपर्क किया। सौदा तो तय हो गया लेकिन दलाल पैसे लेने खुद नहीं आया और उसने लड़की को पैसे देने को कहा। इसके बावजूद हमने मूलरूप से झारखंड के निवासी 24 साल के आरोपी के खिलाफ सबूत इकठ्ठा किए और उसे गिरफ्तार कर लिया। अधिकारियों का कहना है कि दलाल सोचते हैं कि वे सीधे पैसे का लेनदेन नहीं करेंगे तो पकड़ में नहीं आएंगे। लेकिन खाते में जमा पैसे भी उनके खिलाफ पुख्ता सबूत बन सकते हैं जिससे वे इनकार नहीं कर सकते।

पुलिस की लगातार हो रही कार्रवाई से परेशान हाई प्रोफाइल देह के दलालों ने तकनीक का इस्तेमाल शुरू कर दिया है। वे इंटरनेट वेबसाइट और फर्जी कागजात के आधार पर हासिल किए गए मोबाइल नंबरों की मदद से काम करते हैं। ग्राहक को व्हाट्सअप के जरिए लड़कियों की फोटो भेजी जाती है। लड़कियां महंगे और आलीशान होटलों में भेजी जाती हैं और रकम सीधे खाते में मंगा ली जाती है।

इस बारे में प्रवीण पाटील, पुलिस उपायुक्त, समाजसेवा शाखा ने कहा कि देह व्यापार में लिप्त लोग पुलिस से बचने के लिए अलग-अलग तरीके अपनाते हैं लेकिन हम पूरी तरह सतर्क हैं और ऐसे आरोपी किसी भी तरह से बच नहीं सकते.