भगवान महावीर विकलांग निःशुल्क सहायता समिति जयपुर

File pic
  • महाराष्ट्र अब होगा विकलांग मुक्त
  • मुख्यमंत्री ने किया विकलांग मुक्त  भारत का आगाज
  • अब नागपुर से शुरू होगा मेक इन इंडिया का सफर

नागपुर: शुक्रवार को यशवंत स्टेडियम में भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति जयपुर द्वारा आयोजित कार्यक्रम में राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने, मोदी के मेक इन इंडिया के प्रयासों को सफल बनाने की दिशा में एक और कदम बढ़ाते हुए ये घोषणा की कि अब वो  महाराष्ट्र सरकार के साथ भगवान महावीर विकलांग सहायता समिति जयपुर को जोड़कर नागपुर में विकलांगो की मदद के लिए एक बड़ा सेण्टर खोलेंगे, जिसमे विकलांगो के लिए कृत्रिम अंगो का निर्माण और बाकि के तमाम इक्विपमेंट्स की मैन्युफैक्चरिंग इसी सेण्टर मैं की जायेगी, जिसके लिये उन्होंने तीन साल का मिशन तैयार करने की बात की, जिससे पुरे राज्य में विकलांगता दूर हो सके और विक्लांग व्यक्तियों को उनके विकृत अंग की जगह कृत्रिम अंग देकर उनकी नयी जिंदगी की शुरुआत हो सके, और वो सक्षम बनकर एक खुशहाल जिंदगी जी सकें. और इस कार्य के लिए उन्होंने पालक और ऊर्जा मंत्री बावनकुले को भी इस कार्य मैं जुड़ने के लिए कहा.

मुख्यमंत्री ने मोदीजी की उस बात का बड़े जोश के साथ समर्थन किया कि कोई भी व्यक्ति व्विक्लांग नहीं दिव्यांग होता है, और अब फडणवीस सरकार नितिन गडकरी और नरेंद्र मोदी साथ मिलकर टेक्नोलॉजी के जरिये इन्हें पूर्ण करने की तैयारी कर रही है. कार्यक्रम में न सिर्फ राजनैतिक बल्कि कुछ NRI भी मौजूद थे, जिनमें से प्रेम भंडारी जयपुर फुट के CEO के विकलांगो के प्रति निस्वार्थ सेवा की मुख्यमंत्री ने सराहना की और आगे के कैंप के लिए भी हर संभव मदद का आश्वासन दिया.

कार्यक्रम में हजारों विकलांगो को उनकी जरूरतों के हिसाब से कृत्रिम अंग, moterized साइकिल, वॉकर, व्हील चेयर, rolator, एल्बो स्टिकस, tricycle और तमाम चीजों का वितरण हुआ जिसके लिए DPC (जिला नियोजक समिति) एक करोड़ पेंतीस लाख की सहायता दी.

मुख्यमंत्री, पालक मंत्री, बीजेपी नेता राजपुरोहित, MLA सुधाकर देशमुख, मनपा आयुक्त जयदीप अदिकर , मुख्य कार्यकारी अधिकारी जिला परिषद्, MLA मल्लिकार्जुन रेड्डी, जिला अधिकारी सचिन कुर्वे, विभागीय आयुक्त अनूप कुमार, सुधीर पाखे, MP अजय संचेती, जिला पंचायत कार्यकारी अधिकारी सुरेंद्र पागड़े, कादंबरी बलकवड़े मौजूद थे.