बारिश में टुटनेवाले 82 गावों में 100 बेली- ब्रीज निर्माण करेंगे -मुख्यमंत्री

गडचिरोली को स्वतंत्रता के बाद सर्वाधिक निधि देनेवाली सरकार

belly-bridge will create 100 belly-bridges in 82 villages- Chief Minister

गडचिरोली : विगत चार सालों में स्वतंत्रता के बाद पहली बार गडचिरोली जिले में विकास के लिए सर्वाधिक निधि दिया है. मैंने और केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने अवसर मिलनेपर बार बार गडचिरोली जिले का दौरा किया है. इस जिले के सर्वांगिण विकास के लिए यह सरकार कटिबध्द है. बारिश में जिले से संपर्क टुटनेवाले 82 गांवों में टेम्पररी स्वरूप के 100 बेली-ब्रीज निर्माण किए जाएंगे, ऐसी घोषणा, राज्य के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने आज की.

गडचिरोली के सोनापुर में आज कृषि महाविद्यालय की नई इमारत का लोकार्पण, प्रमुख पुलों का उद्घाटन, महामार्गों का ई- भुमिपूजन और लाभार्थियों को विभिन्न सामग्री का वितरण करने का कार्यक्रम स्थानीय कृषि महाविद्यालय के प्रांगण में आयोजित किया गया था. इस समय अध्यक्ष स्थान पर केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितीन गडकरी उपस्थित थे. इस समय राज्य के वन एवं आदिवासी विकास राज्यमंत्री तथा गडचिरोली के पालकमंत्री राजे अम्ब्रीशराव आत्राम की प्रमुख उपस्थिती थीं. इस समय मंच से बोलते हुए मुख्यमंत्री ने केंद्र और राज्य सरकार शोषित, वंचित और गरिब लोगों को केंद्र स्थान पर रखकर लोकोपयोगी योजना चला रही हैं. इस समय अलग रास्ते से भटके हुए युवाओं ने लोकतांत्रिक व्यवस्था और विश्वास रखकर विकास के प्रवाह में सहभागी होने का आवाहन भी उन्होंने किया.

कार्यक्रम में मंच पर सांसद अशोक नेते, जिला परिषद अध्यक्ष योगिता भांडेकर, विधायक रामदास आंबटकर, विधायक डॉ. देवराव होली, विधायक कृष्णा गजबे, विधायक कीर्तीकुमार भांग‍डिया, न.प. अध्यक्ष योगिता पिपरे, विभागीय आयुक्त डॉ. संजीव कुमार, मुख्य वनसंरक्षक एटबॉन, जिलाधिकारी शेखर सिंह, पुलिस अधीक्षक शैलेश बलकवडे, जि.प.मुख्य कार्यकारी अधिकारी डॉ.विजय राठोड, भाजप अल्पसंख्यक मोर्चा के प्रदेशाध्यक्ष जमाल सिद्दीकी, बाबूराव कोहले आदि उपस्थित थे.

पुलवामा में हुए आत्मघाती हमले में सी.आर.पी.एफ.के 40 जवान शहीद हुए. इसलिए कार्यक्रम में मुख्यमंत्री और अन्य अतिथियों का स्वागत साधे तरीके से पुष्प गुच्छ के बिना ही किया गया. मुख्य समारोह शुरू होने से पहले शहीदों को श्रध्दांजली अर्पण की गई. इस समय गडचिरोलीवासियों ने ‘भारत माता की जय’ की घोषणाएं दी.

इस समय उपस्थित नागरिकों से संवाद साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि, गडचिरोली जिले में विपुल वनसंपदा और पानी होते हुए भी बड़े सिंचाई प्रकल्प खड़े नहीं हो सकते ऐसा स्पष्ट किया. इसलिए विगत चार वर्ष में केंद्रीत सिंचाई पर ध्यान देते हुए 11 हजार कुएं किसानों के लिए मंजूर किए गए. कुएं, खेत तालाब, छोटे पुल कम बांध के माध्यम से सिंचाई सुविधा उपलब्ध करवाई गई है. कुओं के साथ मोटर पंप, बिजली नियमित दिया जाना चाहिए. कृषि विश्वविद्यालय के इस महाविद्यालया से जिले को पुरक मार्गदर्शन की अपेक्षा है, ऐसा उन्होंने कहा.

बारिश में इस जिले के संपर्क टुटनेवाले गांवों को बेली-ब्रिज व्दारा जोड़ा जाएगा. इन गांवों का विकास रुकना नहीं चाहिए. साथ ही जिले की गोदावरी के साथ प्राणहिता, इंद्रावती नदी के पुलों का काम जल्द ही पूर्ण होगा, ऐसा उन्होंने कहा.

विधायक डॉ. देवराव होली द्वारा रखे मेक इन गडचिरोली संकल्पना को राज्य सरकार के मार्फत प्रोत्साहन दिया जाएगा, ऐसा उन्होंने बताया. इस क्षेत्र में बड़े उद्योग खड़े होने के बाद रोजगार को निश्चित रूप से बढ़ावा मिलेगा. इसलिए मेक इन गडचिरोली मुहिम का हम स्वागत करते है, ऐसा उन्होंने बताया.

केंद्रीय सड़क परिवहन मंत्री नितीन गडकरी ने गडचिरोली जिले की विपूल वनसंपदा, पानी, खनिज संपदा को देखते हुए जिला महाराष्ट्र का सबसे प्रगत जिला होना चाहिए था, लेकिन दुर्लक्षित किए जाने से यह जिला विकास से वंचित रहा है. इसलिए विगत चार सालों में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और हमने स्वयं इस जिले के विकास पर ध्यान केंद्रित किया है.

कृषि विश्वविद्यालय का चार दीवारों के बीच होनेवाले संशोधन को सीधे किसानों के खेतों में बरकत लाने के लिए काम आना चाहिए, ऐसा आवाहन उन्होंने किया. जिन चीजों के कारण आयात कम हो सकती है, पैसा मिल सकता है, आम लोगों के जीवन में समाधान आ सकता है उन फसलों के संशोधन को अधिक प्राथमिकता देने की सूचना उन्होंने दी. साथ ही जिले में कौन से प्रयोग किए जाने से आम लोगों के जीवन में बदलाव होगा, इस संदर्भ में योजनाएं जिला नियोजन से तैयार करने का आवाहन भी श्री. गडकरी ने किया.

आज मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने कृषी महाविद्यालय की इमारत, उप प्रादेशिक परिवहन कार्यालय, कठाणी नदी के पुल का लोकार्पण किया. साथ जी आमगाव से आलापल्ली, ब्रम्हपूरी से धानोरा महामार्ग का भुमिपूजन किया. गति 2 योजना के अंतर्गत जिले के युवाओं को 50 हजार रुपयों के निवेश पर स्टँडअप इंडिया अंतर्गत 20 लाभार्थियों को टाटा ट्रक 40 फीसदी सबसिडीपर दिया गया. लॉयडस् स्टिल तथा खनिकर्म निधि से यह मुहिम चलाई गई. इस अवसर पर लॉयडस् के अतुल खाडिलकर भी उपस्थित थे.

◆ विकास की गति बढ़ी

सरकार ने गडचिरोली के विकास के लिए प्राथमिकता दी हैं. इसलिए 4 सालों में बड़े पैमाने पर निधि उपलब्ध करवाने का काम मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने किया है. केंद्र की योजनाओं के लिए केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी ने भी बढ़ावा देने से विकास की गति बढ़ी है, इसलिए मैं दोनों का आभार मानता हूं, ऐसे शब्दों में पालकमंत्री राजे अम्ब्रीशराव आत्राम ने अपनी भावनाएं व्यक्त की.

गडचिरोली जिले में 12 हजार करोड़ के रास्ते हो रहे हैं. यह पहली बार हो रहा है. विगत 20 सालों में कई क्षेत्रों में पहली बार रास्ते तैयार हो रहे हैं. मुख्यमंत्री ग्रामसडक योजना में 1 हजार करोड़ मंजूर कर सड़कों के काम हो रहे हैं. जिले के प्रत्येक गावों में बिजली आपूर्ति के 3 सालों में हुई है साथ ही जलापूर्ति और अन्य काम भी बड़े पैमाने पर हो रहे हैं, ऐसा उन्होंने बताया.

कृषि महाविद्यालय के माध्यम से इस जिले के किसानों को नया तंत्र और खेती की जानकारी होकर उत्पादन बढ़ोतरी में मदद होगी. साथ ही अहेरी के रुग्णालय निर्मिति के निर्णय के लिए पालकमंत्री ने आभार व्यक्त किए.

इस समय सांसद अशोक नेते, विधायक डॉ. देवराव होळी, डॉ. पंजाबराव देशमुख कृषी विद्यापीठ अकोला के कुलगुरु डॉ. विलास भाले ने मनोगत व्यक्त किया. जिलाधिकारी शेखर सिंह ने प्रस्ताविक किया.

कार्यक्रम का संचालन रेणुका देशकर ने किया तथा आभार प्रदर्शन जिला सूचना अधिकारी प्रशांत दैठणकर ने किया.