आस्था के नाम बने कानून तो राष्ट्र ‘हिंदू’ हो जाएगा : ओवैसी

Owisi

नई दिल्ली : आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने रविवार को गोहत्या के खिलाफ देशभर में एक कानून बनाने की वकालत की थी. उन्होंने निगरानी समूहों से पशुओं की रक्षा करते समय कानून का पालन करने की भी नसीहत दी थी. उन्होंने कहा था, ‘हम देशभर में गोहत्या पर रोक लगाने वाला कानून चाहते हैं.’

इसका विरोध करते हुए ऑल इंडिया मजलिस-ए इत्तेहादुल मस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने गौरक्षा कानून पर ऐतराज जताया है. असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि कानून मजहब की बुनियाद पर नहीं बनाया जाता है. आस्था के आधार पर भी कानून नहीं बनाए जाते. ओवैसी का मानना है कि अगर मजहब के नाम पर कानून बनाए गए तो हिंदू राष्ट्र हो जाएगा. ये देश के लिए ठीक नहीं है.

गौ हत्या के खिलाफ देश में एक कानून पर ओवैसी ने कहा- बीजेपी दोहरी बात बोलती है. नॉर्थ ईस्ट में बीजेपी कहती है कि वहां पर गौ हत्या के खिलाफ कोई बिल नहीं लाएंगे. यह दोहरी नीति क्यों है. ओवैसी ने गौरक्षा के नाम पर हत्याओं का मसला भी उठाया. उन्होंने कहा- मोदी सरकार में गौरक्षा के नाम पर 9 से ज्यादा मुसलमानों की हत्या हो चुकी है. ओवैसी ने अलवर की घटना का भी जिक्र किया. वो बोले कि ऐसी घटनाओं से देश को क्या फायदा हो रहा है.