मनोहर पर्रिकर गोवा के मुख्यमंत्री नियुक्त

15 दिनों में साबित करना होगा बहुमत

गोवा की राज्यपाल मदुला सिन्हा ने रविवार को भाजपा के मनोहर पर्रिकर को सरकार बनाने के लिए आमंत्रित किया है। अभी केंद्र में रक्षा मंत्री पर्रिकर एक बार फिर गोवा के मुख्यमंत्री होंगे। राज्यपाल ने उन्हें शपथ लेने के बाद 15 दिनों के भीतर बहुमत साबित करने को कहा है। इससे साफ हो गया है कि मनोहर पर्रिकर अब रक्षा मंत्री पद से इस्तीफा देंगे।

वहीं, इससे पहले मनोहर पर्रिकर के रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफे की अटकलों पर नीतिन गडकरी ने कहा है कि उन्होंने अभी तक रक्षा मंत्री के पद से इस्तीफा नहीं दिया है। उन्होंने कहा है कि एमजीपी और जीएफपी ने बातचीत के दौरान कहा है कि अगर पर्रिकर गोवा के मुख्यमंत्री बनते है तो वह उन्हें समर्थन देंगे।

मनोहर पर्रिकर ने कहा कि यह जनादेश लोगों द्वारा दिया गया है और हम बहुमत से थोड़ा कम रह गए। गठबंधन के जरिए हम जादूई आंकड़े 21 को पूरा कर लेंगे। हम गवर्नर से मिले लेकिन हम निमंत्रण का इंतजार कर रहे है। एक बार हमें निमंत्रण मिलता है तो हम अपने साथियों के साथ मिलकर सरकार बनाएंगे।

बीजेपी सूत्रों का दावा है कि महाराष्ट्र गोमंतक पार्टी और गोवा फॉरवर्ड पार्टी के तीन-तीन विधायकों के साथ तीन निर्दलीय विधायक भी उनके साथ है। बीजेपी के 13 और अन्य पार्टियों के विधायकों के समर्थन के साथ बीजेपी गठबंधन गोवा में 21 के जादूई आंकड़े को पार कर लिया है।

इसस पहले रक्षा मंत्री मनोहर पर्रिकर का कहना है कि भले भाजपा को बहुमत ना मिला हो लेकिन पार्टी सरकार बनाने की स्थिति में है। ऐसे में गोवा में भाजपा की उपस्थिति को नकारा नहीं जा सकता। भाजपा अभी भी सरकार बनाने की दौड़ में शामिल है। पर्रिकर ने कहा कि पार्टी छोटी पार्टियों से जवाब का इंतजार कर रही है क्योंकि किसी पार्टी को उपयुक्त जनादेश नहीं मिला है।